Kaccha lahsun khane ke fayde

नमस्कार दोस्तों बहुत-बहुत स्वागत है हमारे पोस्ट Sehatbnao.com, पर जहां मैं आप सबको जैसा कि हमारे Blog के नाम से ही पता चलता है सेहत से जुड़ी खाने पीने वाली चीजों के बारे में अवगत कराते रहती हूं कौन सी चीज कब खाना चाहिए और किस चीज को खाने से हमें क्या लाभ मिलता है कितना मिलता है किस चीज में कौन सी ingirianat पाए जाते हैं या फिर कितनी मात्रा लेनी चाहिए खाने के हम रोज हर तरह के फल फ्रूट खान पान खाते रहते, हैं खाते हैं l

Table of Contents

लेकिन बहुत कम लोगों को मालूम होता है कि हमारे खाने पीने की मात्रा सही क्या होनी चाहिए ?या फिर खाने का सही समय या फिर खाने का सही तरीका क्या होना चाहिए? आज के इसी खान-पान के कड़ी में आज मैं आप लोगों के लिए ,kaccha lahsun khane ke fayde  या फिर लहसुन के फायदे के बारे में बताऊंगी जिसे जानकर अगर आप लहसुन ना भी खाते हो तो खाना जरूर शुरू कर देंगे और अगर नहीं शुरू करना चाहते हैं l

तो मेरी आपसे यही सलाह है कि आप बिल्कुल लहसुन खाना शुरू कर दीजिए और लहसुन खाने से पहले आप मेरे बताए गए इस पोस्ट को जरूर पढ़िए l

kaccha lahsun khane ke fayde

दोस्त ठंड का मौसम शुरू होते ही तरह तरह की समस्याएं भी शुरू हो जाती है हमारे लिए हमारे बच्चों के लिए और खास करके जो हमारे घर में बड़े बुजुर्ग हैं उनके लिए तो मत ही पूछो जो लोग गांव में रहते हैं उनको इन समस्या का सामना बहुत मजबूती के साथ करना पड़ता हैl

Read more : Adrak ka juice peene se kya fayda hota hai hindi me

और , जिस तरह से ठंडी में हम अपने पहनावे उड़ावे का बहुत खास करके ध्यान रखते हैं उसी तरह से अपने खानपन का भी ध्यान रखना शुरु कर दे तो ठंडी तो कब और कटेगा पता ही नहीं चलेगा अगर आपको ठंडी हो में कब सर्दी खासी जैसी समस्या बहुत जल्दी जल्दी हो जाती है तो आपको सबसे पहले सब छोड़कर लहसुन का सेवन शुरू कर देना चाहिए अगर आप रोजाना सेवन करते हैं सर्दी कब्ज़ नजला जुकाम जैसी समस्याओं से निजात पा सकते हैं l चलिए जानते हैं l kaccha lahsun khane ke fayde के बारे में l

1. सर्दी जुकाम और कफ मे राहत–

ठंडी के दिनों में अगर आपको सर्दी खासी जुकाम और कफ जैसी समस्या बार-बार हो जाती है तो आप लहसुन का सेवन शुरू कर दें आपको तुरंत राहत मिलेगा और इसको खाने का तरीका है अगर आपको यंग हैं और आपकी उमर अगर आप 21 से 30 वर्ष के बीच में तो आप कच्चे लहसुन का सेवन बड़ी आसानी से कर सकते हैं l

और इससे आपको कोई नुकसान भी नहीं होगा आप सुबह-सुबह कच्चे लहसुन की दो कलियां खाकर थोड़ा सा गुनगुना पानी पी लऔर ऐसा आपको तकरीबन 15 से 20 दिनों तक करना होगा उसके बाद आपको फायदा साथ नजर आएगाl

Tips-कच्चे लहसुन की 10 से 20 कलियां लेने और उसको छील ले, के बाद इसको शुद्ध या असली राई के तेल में अच्छी तरह से पका लें राई का तेल आपको एक कप लेना है या फिर आप अपनी जरूरत के हिसाब से उसकी मात्रा भी बढ़ा सकती हैं और उसमें थोड़े सर खाने वाला नमक मिलाएं इसको तब तक पकाएं जब तक कि लहसुन की कलियां काली ना हो जाएl

उसके बाद उसको ठंडा करके किसी जा रहा डब्बे में रखने बच्चों को मालिश करते समय उनके सीने पर और हाथ पैर के तलवों में उसके बाद आप चाहे तो बच्चों को थोड़ा सा लहसुन का पकाया हुआ तेल पीला भी सकती हैं इससे उनको सर्दी जुखाम कभी नहीं होगा पूरी ठंडी आराम से कब जाएगी और उनका इम्यूनिटी सिस्टम भी मजबूत होगाl

2. छोटे बच्चों की मालिश और उनको पिलाने से निरोग रहेंगे बच्चे –

अगर आपके छोटे बच्चे हैं और उनको सर्दी जुकाम जैसी छोटी-छोटी समस्याएं रोज रहती है तो आप उनका उपचार अपने घर पर ही कर सकती हैं इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान भी रखना होगा नीचे हम आपको बताएंगे कि छोटे बच्चों के लिए लहसुन को दवा के रूप में कैसे इस्तेमाल कर सकते हैंl

Tips– कच्चे लहसुन की 10 से 20 कलियां लेने और उसको छील ले, के बाद इसको शुद्ध या असली राई के तेल में अच्छी तरह से पका लें राई का तेल आपको एक कप लेना है या फिर आप अपनी जरूरत के हिसाब से उसकी मात्रा भी बढ़ा सकती हैं और उसमें थोड़े सर खाने वाला नमक मिलाएं इसको तब तक पकाएं जब तक कि लहसुन की कलियां काली ना हो जाए l

उसके बाद उसको ठंडा करके किसी जा रहा डब्बे में रखने बच्चों को मालिश करते समय उनके सीने पर और हाथ पैर के तलवों में उसके बाद आप चाहे तो बच्चों को थोड़ा सा लहसुन का पकाया हुआ तेल पीला भी सकती हैं इससे उनको सर्दी जुखाम कभी नहीं होगा पूरी ठंडी आराम से कब जाएगी और उनका इम्यूनिटी सिस्टम भी मजबूत होगा

3. हड्डियों की मजबूती के लिए लहसुन का इस्तेमाल

कच्चे लहसुन में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है और इसके साथ ही इसमें कैल्शियम की मौजूद होता है जो की हड्डी रोगियों के लिए रामबाण है लहसुन का इस्तेमाल औषधि के रूप में पुराने समय से चला रहा है अगर आपको हड्डी संबंधित कोई समस्या है तो आप लहसुन का सेवन जरूर करेंl

4. पेट को साफ करके पाचन संबंधित समस्या को दूर करें-,

कच्चे लहसुन की कलियों में एंटीफंगल एंजाइम पाए जाते हैं जो खराब बैक्टीरिया को मारकर पेट की सफाई करते हैं और पाचन तंत्र को सही रखते हैं लहसुन का सेवन करने से गैस और एसिडिटी की समस्या नहीं होती है जिसके वजह से हमारा पाचन तंत्र स्वस्थ रहता हैl

5. त्वचा के लिए लहसुन का उपयोग- खाली पेट कच्चे लहसुन का प्रयोग करने से त्वचा संबंधित समस्या से भी छुटकारा पाया जा सकता है क्योंकि लहसुन हमारे पेट को भी साफ रखता है और रक्त की सफाई भी करता है त्वचा संबंधित सारी समस्याएं खराब रक्त और पाचन तंत्र खराब रहने से होती है l

अगर आप का पाचन सही रहेगा तो आपके त्वचा पर किसी भी प्रकार की एलर्जी या दाने नहीं होंगे और स्किन चमकदार और खूबसूरत हो जाएगी इसके लिए आपको रोजाना खाली पेट कच्चे लहसुन की एक कली गुनगुने पानी के साथ लेना होगाl6. इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत रखें-,

कई अभियानों के रिसर्च से पता चलता है कि लहसुन खाने से इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होती है एलीसिस जसे सल्फर युक्त यौगिकों के कारण जो शरीर में सूजन हो जाता है उसको खत्म करके इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत बनाए रखता हैl

8. कोलेस्ट्रोल को कम करें और हाई ब्लड प्रेशर को रोके–

रिसर्च की मानें तो हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के मरीजों को कच्चे लहसुन का सेवन जरूर करना चाहिए य नसों में गंदा खून जमा हो जाने के कारण कोलेस्ट्रोल बढ़ जाता है और कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की वजह से हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है जो कि हार्ट अटैक जैसी बीमारी का कारण बनती हैl

ऐसे में लहसुन लाभदायक साबित हो सकता हैlकौन सी स्थिति में लहसुन नहीं खाना चाहिए? – कहते हैं कि एक सिक्के के दो पहलू होते हैं जहां किसी चीज के बहुत ज्यादा फायदे होते हैं तो वहीं उसके कुछ नुकसान भी होते हैं ऐसा ही है लहसुन के बारे में भी लहसुन खाने के बहुत सारे फायदे हैं तो कुछ नुकसान की भी नुकसान भी है

अच्छा होगा लहसुन का सेवन करने से पहले आप यह जानना की कौन सी स्थिति मे लहसुन नही खाना चाहिए

1. लो ब्लड प्रेशर वालों को लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए

2. जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या हो उनको भी लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा हो सकता है कि लहसुन की दुर्गंध से उनकी समस्या और बढ़ जाए

3. अगर कोई महिला गर्भवती है तो उसे लहसुन का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि लहसुन की तासीर बहुत ज्यादा गर्म होती है और गर्भावस्था के दौरान गर्म चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए लहसुन ज्यादा खाने से गर्भपात का खतरा हो सकता हैl

lahsun ko english mein kya kahate hainलहसुन को इंग्लिश में क्या कहते हैं?)

लहसुन के कई प्रकार होते हैं और इनके

अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग नाम होते हैं इंडिया में लहसुन को लहसुन ही बोला जाता है और लहसुन को इंग्लिश में Garlic कहां जाता हैl

लहसुन के नुकसान(Lahaun ke nuksan in hindi)

sideeffect of Garlicलहसुन के नुकसान

लहसुन खाने से उल्टी और दस्त की समस्या भी हो सकती है साथ ही साथ गर्भवती महिलाओं को लहसुन का ज्यादा उस सेवन करने से गर्भपात होने का भी खतरा रहता है l

लहसुन की गंध सब को नहीं पसंद आता है अगर माइग्रेन किसी को है और उसकी गंध बर्दाश्त ना कर पाए तो उसको सदीप चक्कर , आना मधुमेह मैं भी लहसुन ज्यादा सेवन नुकसानदायक साबित हो सकता हैl

लहसुन की तासीर(Effect of garlic) 

आमतौर पर माना जाता है कि लहसुन की तासीर गर्म होती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि लासुन नहीं खाना चाहिए डॉक्टर की माने तो लहसुन गर्म तो होता हैl

लेकिन इसको खाने से इसके कोई नुकसान नहीं होते हैं लेकिन बहुत सारी दवाई ऐसी होती हैं जिनको खाने के टाइम लहसुन का सेवन रोक देना चाहिए इसीलिए कभी भी लहसुन अगर कोई दवा ले रहे हैं तो बिना डॉक्टर की परामर्श के ना लें ल

लहसुन में पाए जाने वाले पोषक तत्व(Nutrients found in garlic)

लहसुन में सल्फ्यूरिक एसिड ,विटामिन ए बी सी ,और इसके अलावा प्रोटीन वसा, कर्बोस् खनिज लवण ,लोहा, विटामिन B6, कैल्शियम, मैग्ग्नीज, जस्ता और बहुत कम मात्रा में प्रोटीन और Paitothainic एसिड पाया जाता हैl जो कि शरीर के लिए बहुत जरूरी हैl
4. खराब लिवर वालों को भी लहसुन का सेवन बहुत कम करना चाहिए

5. किसी प्रकार का दवा या मेडिसिन लेने के दौरान लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए लहसुन की गर्मी और मेडिसिन की गर्मी शरीर में जाकर बहुत ज्यादा गर्माहट पैदा कर सकते हैं जिससे कि इंफेक्शन का खतरा भी हो सकता हैl

Conclussion

सलाह सहित यह समाग्री kaccha lahsun khane ke fayde सामान्य जानकारी प्रदान करती है l यह किसी भी तरह किसी तरह चिकित्सक की राय का विकल्प नहीं है l तथा यह किसी बीमारी का इलाज नहीं हैl हमारे इस आर्टिकल का मतलब लोगों में चीजों के प्रति जागरूकता प्रदान करना है l इसको सामान्य समस्याओं में इस्तेमाल किया जा सकता है l इसकी अधिक जानकारी के लिए चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें l (Sehatbnao.com)इसके लिए किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करती है l