हींग खाने के फायदे और नुकसान,नवजात शिशु के हर समस्या का समाधान हिंग-

हींग खाने के फायदे और नुकसान l
हींग प्राचीन काल से ही भारतीय रसोई का हिस्सा रहा है l इसका उपयोग कभी आचार बनाने में तो कभी दाल में तड़का देने में कभी मसाले के रूप में तो कभी औषधि के रूप में किसी ना किसी बहाने उपयोग किया जाता रहा है l

अगर आप एक चुटकी” हींग खाने के फायदे और नुकसान अच्छे से समझ कर अपने खाने तथा व्यंजनों का हिस्सा बना ले तो खाने के स्वाद का मजा ही अलग हो जाता है l
हींग का उपयोग विश्व के लगभग कई देशों में किया जाता है l

और किया भी क्यों न जाए यह इतना गुणकारी और फायदेमंद होता है ,कि इसे औषधियों के साथ-साथ व्यंजनों में भी इस्तेमाल किया जाता है l
हींग कई प्रकार का होता है तथा कई तरीके से व्यक्तिगत स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है l हींग खाने के फायदे और नुकसान क्या है l

हींग का इस्तेमाल कैसे किया जाए तथा इस्तेमाल करने का सही समय क्या है l आइए जानते हैं l सेहत बनाओ के इस लेख में l

हींग खाने के फायदे और नुकसान, Benefits and sideeffect of Hing.

वैसे तो हिंग के इतने सारे फायदे हैं कि एक ही पोस्ट में बताना संभव नहीं है लेकिन कुछ जरूरी फायदे ऐसे हैं जो हर घर में इस्तेमाल इसीलिए किए जाते हैं क्योंकि उन इससे उनको लाभ मिलता है यह जानते हैं हिंग के कुछ महत्वपूर्ण लाभ के बारे में!

1.पाचन क्रिया के लिए-

हींग के अंदर कई सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं l जो हमारे शरीर के लिए कई तरह से उपयोगी माना जाता है l इसमें से एक पाचन क्रिया के सुधार लाने के लिए काफी फायदेमंद होता है आयुर्वेद में हींग को रेचक मल निष्कासन की क्रिया में सुधार लाने वाला तथा पेट फूलने की समस्या से छुटकारा दिलाने वाला बताया जाता है l

हींग का सेवन करने से कब्ज तथा गैस नहीं होता है l साथ ही साथ यह खाने को पचाने में काफी आसानी कर देता है l जिसके कारण पाचन क्रिया सही ढंग से काम करने लगता है l

2. कैंसर से बचाता है l

हींग इतना प्रभावशाली और गुणकारी है l कि यह कैंसर जैसी घातक बीमारी से भी हमारी रक्षा करता है l इसके निरंतर सेवन से कैंसर से तो बचाता ही है l साथ ही साथ कैंसर के मरीजों को भी इसका सेवन काफी फायदेमंद साबित होता है l जो लोग हींग खाने के फायदे और नुकसान के बारे में नहीं जानते हैं l

उन्हें यह जानकारी मिलने के बाद हैरानी होगी कि हींग ना सिर्फ कैंसर से बचाव ही करता है l बल्कि यह कैंसर के इलाज में भी उपयोगी होता है l एक नई रिसर्च से यह बात सामने आई है l कि हींग के अंदर कई ऐसे योगिक होते हैं l इसमें से दो पर शोध किया गया है l

तो पता चला है l कि उंब्रेलिप्रेनिन और फेरिलिक एसिड नए कैंसर की कोशिकाओं के विकास को रोकने में मदद करता है l जिसके कारण यह कैंसर की बीमारी में भी फायदेमंद हो सकता है l

हींग के अंदर प्रभावशाली एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है l जो शरीर को फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से बचाता है l इस तथ्य से यह बात सामने आई है l कि हींग कैंसर रोधी होता है l

3. स्किन संबंधी समस्याओं के लिए l

हींग स्किन के लिए एक शानदार घरेलू इलाज है l यह त्वचा की कई समस्याओं से छुटकारा दिलाता है l त्वचा संबंधी समस्याएं तथा दाग धब्बे पिंपल्स पाचन क्रिया की सही ढंग से काम ना करने की वजह से होता है l

और हींग पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए एक कामयाब और प्राचीन नुस्खा है l इसका सेवन से पाचन क्रिया सही ढंग से काम करने लगता है l जिसके कारण पिंपल, फोड़े, दाग धब्बे, से धब्बे रैशेज खुजली इत्यादि से छुटकारा मिल सकता है l

कई सारे ब्यूटी प्रोडक्ट कॉस्मेटिक निर्माता में हींग का उपयोग किया जाता है l यही वजह है कि अगर आप हींग को सीमित मात्रा में लेना शुरू कर देंगे या पिंपल की जगह पर लगा लेंगे तो पिंपल भी खत्म हो जाएगा और पेट की गर्मी और पाचन क्रिया की खराबी की वजह से दोबारा पिंपल निकलेगा भी नहींl

4. की गैस को खारिज करता है l

पेट में गैस बनना पेट फूल जाना बच्चे और बुजुर्गों में खासतौर पर देखा जाता है l तथा घर के बड़े बुजुर्ग हींग का सेवन करते हैं और हींग का पानी नाभि में लगा देते हैं l ऐसा करने से पेट के गैस को खारिज करने में तथा पेट को हल्का करने में काफी उपयोगी होता है l

खास तौर पर बच्चों में पेट दर्द और गैस की समस्या जब होती है l तो वह बहुत ज्यादा ही रोने लगते हैं l तथा वह बता भी नहीं सकते हैं कि उनके पेट में क्या परेशानी है l ऐसी समस्याओं के लिए हींग का उपयोग प्राचीन काल से ही किया जाता रहा है l

पेट में गैस पेट दर्द की वजह से बच्चे रो रहे हों तो हींग को पानी में घोल बनाकर इस घोल को बच्चों की नाभि पर लगा देने से बहुत जल्द आराम मिल जाता है l इसके साथ ही हींग भूनकर लिया जाए तो यह पेट की गैस में काफी असरदार माना जाता है l

5.कीरा और बलगम को जड़ से खत्म करता है l

कीरा गिरना और गले में तथा फेफड़ों में बलगम बलगम का जमा हो जाना एक ऐसी समस्या है l जिसे कितने भी समय दवाइयां करें यह दवाइयों के असर तक सही रहता है l

तथा दवाइयां छोड़ते ही फिर से वही होने लगता है l हींग की धूनी लेना कीरा और बलगम के खात्मे का रामबाण इलाज माना जाता है l

अगर कोई इस समस्या का शिकार है तो उसे सोने से पहले गर्म कोयले पर एक चने के बराबर हींग को रखकर उसकी धूनी तेज सांस खींच कर सुंघा दिया जाय तो यह कीरा और बलगम दोनों को जड़ से खत्म करने में काफी मददगार होता है

lइसके अलावा कीरा और बलगम को खत्म करने के लिए हींग का काढ़ा भी तैयार किया जाता है l इसके पीने से इसके पीने से कीरा और बलराम जड़ से खत्म हो जाता है l

6. वायरल संक्रमण से बचाता है l

हींग के अंदर एंटीबैक्टीरियल तथा anti-fungal गुण पाया जाता है l जो कि वायरल संक्रमण से बचाने में काफी मददगार होता है l हींग जिस घर में ही होता है l

उस घर में लोगों को वायरल संक्रमण का खतरा नहीं होता है l जिस घर में हींग की धूनी दी जाती है l उस घर से बरसात के बरसात के सीलन की बदबू खत्म हो जाती है l

इसकी खासियत यह है कि इसकी तीखी खुशबू घर से कीटाणुओं और काकरोच और तमाम छोटे-बड़े कीड़े मकोड़े घर से बाहर भाग जाते हैं l

7.डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद l

हींग के लैक्सिट पदार्थ में एंटी डायब्टिक (anti-diabetic )गुण होता है l जिसके कारण यह डायबिटीज के रोगियों के लिए किसी औषधि से कम नहीं है l

एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार हींग के अंदर पाए जाने वाले (anti-diabetic) एक्टिविटी मधुमेह से प्रभावित पैंक्रीअटिक बी सेल यानी अग्नाशय की कोशिकाओं को प्रभावित करती है l

जिससे यह पता चलता है कि इस तथ्य से यह साबित होता है कि झींगा डायबिटीज के रोगियों के लिए को कंट्रोल करने के लिए बेहतर विकल्प हो सकता है lहींग को घी में भूनकर उसका पाउडर बना लें और इसे रात को गाय के दूध के साथ 1 ग्राम रोजाना लेने से डायबिटीज काफी हद तक कंट्रोल रहता है l

8.भरपूर एंटीऑक्सीडेंट l

हमारे खाद्य पदार्थ तथा डेली के डाइट में अगर एंटीऑक्सीडेंट ना होता तो हमारा शरीर कई प्रकार की शारीरिक तथा मानसिक बीमारियों का शिकार हो जाता है l

हींग एक ऐसा पदार्थ है जिसके अंदर ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं l जो याददाश्त की क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ ऑक्सीडेटिव डैमेज ऑफ़ ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने का काम करता है l

आपको बताते चलें कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और ऑक्सीडेटिव डैमेज के कारण भी डायबिटीज तथा कैंसर हार्ट अटैक कार्डियोमायोपैथी मोटापा जैसी कई सारी समस्याएं होती हैं l

इन सब में हींग के अंदर पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट इन सब बीमारी और परेशानी से बचाने का काम कर सकता है

हींग के अन्य फायदे l


एक हींग कई सारी बीमारियों परेशानियों का खात्मा कर सकता है l
1.यदि आप कफ और बलगम की समस्या से जूझ रहे हैं l तो इसके लिए हींग की धूनी तथा हींग की पानी काफी फायदेमंद होता है l

FAQ.
Q.हींग की कितनी प्रजाति है l
A.हींग की लगभग 170 प्रजातियां हैं l
Q. भारत में हींग की कितनी प्रजातियां उगाई जाती हैं l
A.भारत में हींग की 3 प्रजातियां उगाई जाती हैं जिसमें से पंजाब जम्मू कश्मीर में उगाया जाता है l
Q. हींग के पौधे की लंबाई कितनी होती है l
A. हींग का पौधा लगभग 4 मीटर तक बढ़ सकता है l या इससे छोटा भी हो सकता है l मगर बड़ा नहीं हो सकता है l
Q. हींग ज्यादातर किस क्षेत्र में पाया जाता है A.हींग का पौधा खासतौर पर भूमध्यसागरीय पूर्वी क्षेत्र और मध्य एशिया में पाया जाता है l
Q. हिंग की तासीर कैसी होती है l
A. हींग की तासीर गर्म होती है l
Q. हींग का स्वाद कैसा होता है l
A. हींग का स्वाद तीखा तथा कटु होता है l
Q.हींग की गंध कैसी होती है l
A. हींग में सल्फर होने के कारण यह अरुचिकर तथा तीक्ष्ण गंध वाला होता है l
Q. हींग शाकाहारी है l या मांसाहारी
A. जैसा कि हमने अपने लेख में बताया कि हींग पेड़ के तने तथा पेड़ से निकलने वाले पदार्थ से बनाया जाता है l जिसके कारण यह शाकाहारी है l
Q.वैज्ञानिक नाम क्या है l
A.हींग का वैज्ञानिक नाम फेरूला ऐसाफोईटिडा (Ferula asafoetida)है l

इसके अलावा हींग पेट दर्द में भी कमाल का काम करता है l यह सर के दर्द में भी फायदेमंद होता है l हींग का सेवन पेट फूलना पेट का भारीपन गैस अपच जैसी समस्याओं में भी बहुत तेजी से काम करता है l

आपको बताते चलें कि हींग ना सिर्फ खाने में बल्कि लगाने में भी फायदेमंद होता है l त्वचा पर अगर दाने और खुजली हो तो हींग का पानी लगाने से काफी आराम मिलता है l

घर के कोने कोने में हींग की कुछ मात्रा रख देने से घर में सीलन और फंगस की बुद्धू खत्म हो जाती है lयह बच्चे, बूढ़े, महिलाएं तथा पुरुष सबके लिए बेहतरीन होता है l

हींग स्किन एलर्जी खुजली त्वचा के दाग धब्बों के लिए भी फायदेमंद माना जाता है l

अस्थमा से रोगियों को भी हींग खाने की सलाह दी जाती है l क्योंकि हींग एंटी बैक्ट्रियल होता है l
जो अस्थमा ब्रोंकाइटिस वालों के लिए बेहतर साबित होता है l

कुछ लोग कान के दर्द में भी हींग को इस्तेमाल में लाते हैं l इसके लिए नारियल या सरसों के तेल में हींग को पका कर तेल की कुछ बूंदें कान के अंदर डाल देते हैं l


हींग के नुकसान l

हींग के नुकसान lहींग के फायदे तो अधिक है l मगर इसका उतना ही है l हींग फायदा तब ही कर सकता है l जब इसे सही ढंग से तथा सीमित मात्रा में लिया जाए कुछ लोगों को पता नहीं होता कि हींग कितनी मात्रा में लिया जाए तथा हींग खाने के फायदे और नुकसान क्या है l

हींग के फायदे के बारे में तो सबको पता चल जाता है मगर इसके नुकसान क्या है l इस बात पर ज्यादातर लोग चर्चा नहीं करते हैं l आज हम आपको हींग खाने के फायदे और नुकसान दोनों से आगाह करेंगे l

1. हींग का अधिक मात्रा में सेवन करना पेट खराब हो जाए कर देता है l जिसके कारण दस्त इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है l

2. जिन लोगों को हींग सूट नहीं करता है l उनके होठों पर उनकी त्वचा पर रैशेज हो जाते हैं ऐसे लोगों को हींग का सेवन करने से बचना चाहिए l

3. हींग का सेवन का दर्द से राहत पाने के लिए किया जाता है मगर वही इसको अधिक मात्रा में ले लिया गया तो सर दर्द तथा चक्कर आना है l इत्यादि समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है l

4. जो लोग जरूरत से ज्यादा हींग का सेवन करते हैं उनके होठों पर सूजन हो सकती है l

हींग में पाए जाने वाले तत्व l

हींग के अंदर फास्फोरस,आयरन, कैल्शियम, कैरोटीन, राइबोफ्लेविन, कार्बोहाइड्रेट ,प्रोटीन तथा फाइबर इत्यादि तत्व पाए जाते हैं इन सबके अलावा हींग के अंदर हींग के अंदर एंटीफंगल गुण और एंटीबैक्टीरियल गुण भी पाया जाता है l

और साथ ही साथ इसमें भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट भी पाया जाता है l

हींग का इस्तेमाल कैसे करें l

अब तक हमने अपने लेख में यह बताया कि हींग के फायदे और नुकसान क्या है l मगर क्या आप जानते हैं l कि हींग का इस्तेमाल करने का सही तरीका क्या है और इसको कितनी मात्रा में ले सकते हैं l

आइए जानते हैं l सेहत बनाओ के इस लेख में l

हींग कई तरह से इस्तेमाल में लाया जाता है l अलग-अलग समस्याओं के लिए अलग-अलग तरीके आजमाए जाते हैं l खाने के लिए अलग तरीके अलग तरीके होते हैं l

खाने में हींग का इस्तेमाल l

. हींग का उपयोग दाल सब्जी साल में तड़का देने का काम आता है l

. अचार में हींग का इस्तेमाल करने से अचार कई सालों तक खराब नहीं होता है l

. हींग को भूनकर उसका पाउडर बनाकर रायते में भी इस्तेमाल कर सकते हैं l

. अगर किसी को गैस अपच तथा कब्ज की समस्या हो तो वह भुने हुए हींग को गुड़ के साथ हाय तो गैस की समस्या में काफी आराम मिल जाएगा l

. पेट दर्द के लिए हींग हरण काला नमक अजवाइन और जीरा जीरे का पाउडर बनाकर खाया जाता है l

. जिन बच्चों को पेट दर्द तथा उल्टी की समस्या रहती है l उन्हें देसी घी में हींग तथा लहसुन पकाकर पिलाया जाए तो काफी आराम मिलता है l

. जिन लोगों को मल त्याग करने में परेशानी हो रही हो उन्हें खाली पेट हींग का पानी पीना चाहिए इससे काफी राहत मिलेगा

हींग क्या होता है l( What is Asafoetida )

हींग एक लेटेक्स (चिपचिपा पदार्थ )है जिसे तैयार करना काफी कठिन होता है l यह फेरूला एसाफिटिडा नामक जड़ी बूटी से निकाला जाता है l

हींग को कैसे तैयार किया जाता है l

हींग तैयार करने के लिए हींग के तने का खोखला और रसीला भाग (लेटेक्स )फेरूला के पौधे की जड़ और प्रकंद सबसे ज्यादा पावरफुल होता है l इसको लेटेक्स से ओलीओरेसिन मिलता है l इसी लेटेक्स (चिपचिपा पदार्थ) को सुखाकर हींग बनाया जाता है l

अस्वीकृत: सलाह सहित यह सामग्री”हींग खाने के फायदे और नुकसान”केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है l यह किसी भी तरह चिकित्सक की राय का विकल्प नहीं है l

हमारे इस आर्टिकल का मतलब लोगों में चीजों के प्रति जानकारी प्रदान करना है l यह किसी भी रोग का इलाज नहीं है l तथा अधिक जानकारी के लिए चिकित्सक से सलाह अवश्य लें (सेहत बनाओ.com)इसके लिए किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करती है l